‘वोट डालने से रोकने के लिए समर्थकों को धमका रही पुलिस’, आजम खान का आरोप

ख़बरें भारत
आजम खान- India TV Hindi
Image Source : FILE PHOTO आजम खान

Rampur By-Election: सपा नेता आजम खान की विधानसभा सदस्यता रद्द किए जाने के बाद रामपुर सदर सीट पर उपचुनाव हो रहा है। इस बीच, आजम खान ने आरोप लगाया है कि जिला प्रशासन और स्थानीय पुलिस सपा कार्यकर्ताओं को धमकाने का काम कर रही है और उनके घरों में घुसकर उनके परिवार की महिला सदस्यों के साथ दुर्व्यवहार कर रही है।

उन्होंने कहा कि ऐसा उन्हें 5 दिसंबर को रामपुर विधानसभा सीट पर होने वाले उपचुनाव में वोट डालने से रोकने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा, “पुलिस ने मेरी पत्नी और रामपुर की पूर्व सांसद तंजीन फातिमा को भी धमकी दी और उनके लिए आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया।” आजम खान ने कहा कि रामपुर नगर निगम के उपकरण गायब होने के मामले में सपा नेता के सह आरोपी मोहम्मद तालिब के घर पर पुलिस की एक टीम ने छापा मारा।

‘पार्टी के 50 कार्यकर्ताओं के दरवाजे तोड़ दिए गए’

आजम ने आरोप लगाया, “पार्टी के 50 कार्यकर्ताओं के दरवाजे तोड़ दिए गए और कई निर्दोष लोगों को सड़कों से उठा लिया गया। वे महिलाओं के लिए आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करते थे। महिलाओं के साथ ऐसा अमानवीय और शर्मनाक व्यवहार प्रशासन को शोभा नहीं देता। मेरी पत्नी तालिब की बुजुर्ग मां को देखने गई थी, जिनकी तबीयत ठीक नहीं है, तभी पुलिस ने उनकी तलाश में घर पर छापा मारा।”  बता दें कि उपकरण इस साल सितंबर में जौहर विश्वविद्यालय से बरामद किया गया था। इस मामले में तालिब फरार है और पुलिस ने उसके खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दी है। 

पार्टी के उम्मीदवारों के लिए वोट मांगने का अधिकार है’

आजम खान ने कहा, “उन्होंने मेरा वोट देने का अधिकार खत्म कर दिया है, लेकिन मेरे पास अभी भी पार्टी के उम्मीदवारों के लिए वोट मांगने का अधिकार है। मेरे पास पुलिस अत्याचार के वीडियो हैं और हम उन्हें अदालत में पेश करेंगे। मुझे लगता है कि मुझे सपा प्रमुख अखिलेश यादव से कहना चाहिए कि वह भारत के चुनाव आयोग से बीजेपी उम्मीदवार को विजेता घोषित करने का अनुरोध करें, क्योंकि यहां कोई चुनाव नहीं हो रहा है। हमारे मतदाताओं को धमकी दी जा रही है कि वे वोट न डालें, नहीं तो उनके घर खाली कर दिए जाएंगे।”

चुनाव प्रचार के लिए रामपुर आने वाले हैं अखिलेश यादव

अखिलेश यादव और रालोद प्रमुख जयंत चौधरी अगले दो दिनों में चुनाव प्रचार के लिए रामपुर आने वाले हैं। इस बीच, एडिशनल एसपी (रामपुर) संसार सिंह ने कहा कि उन्होंने केवल वांछित अपराधियों की तलाश में छापेमारी की। सिंह ने कहा, “यह गलत है कि हमने महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार किया। हम आम तौर पर छापेमारी के वीडियो बनाते हैं और हमारे पास पर्याप्त सबूत और तथ्य हैं।”

बीजेपी उम्मीदवार आकाश सक्सेना ने इस बीच संवाददाताओं से कहा कि आजम खान को यह एहसास हो रहा है कि मुस्लिम समुदाय के सदस्य, जिनमें पार्टी के वरिष्ठ सदस्य भी शामिल हैं, अब बीजेपी का पक्ष ले रहे हैं। हमने उनसे रोजगार और विकास का वादा किया है। रामपुर सदर सीट पर 5 दिसंबर को वोटिंग होगी और तीन दिन बाद 8 दिसंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे।

Latest Uttar Pradesh News