चीन की लंदन में एक ऐतिहासिक प्लॉट पर दूतावास बनाने की प्लानिंग, निवासियों ने किंग चार्ल्स से कहा- इसे रोकें

दुनिया भारत
China Embassy in London, King Charles, King Charles China Embassy, Royal Mint, Royal Mint Court- India TV Hindi
Image Source : PIXABAY चीन की योजना लंदन में एक नया दूतावास बनाने की है।

लंदन: दुनिया के कई देशों को अपने शिकंजे में कस चुके चीन को लेकर ब्रिटेन के भी कुछ नागरिक परेशान हैं। दरअसल, ‘टॉवर ऑफ लंदन’ के सामने एक ऐतिहासिक प्लॉट पर स्थित एक अपार्टमेंट कॉम्प्लेक्स के लोग चाहते हैं कि ब्रिटेन के राजा चार्ल्स इसे फिर से खरीद लें। इन लोगों का दावा है कि इसका मौजूदा मालिक चीन इसे अपने राजनयिक गतिविधि के केंद्र में बदल देगा। CNN की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटिश राजशाही ने 2010 में रॉयल मिंट कोर्ट, जो कि 5.4 एकड़ में फैला हुआ है, को प्रॉपर्टी में डील करने वाली एक कंपनी को बेच दिया। इस जमीन पर कभी एक फैक्ट्री थी जो ब्रिटेन के सिक्के बनाती थी।

Related Stories

2018 में चीन ने खरीद ली थी प्रॉपर्टी

बीजिंग ने 2018 में प्रॉपर्टी कंपनी से यह जमीन खरीद ली और अब युनाइटेड किंगडम में इसे अपने नए दूतावास में बदलने के लिए लाखों डॉलर के इन्वेस्टमेंट की प्लानिंग पर काम कर रहा है। टॉवर हैमलेट्स, जो कि स्थानीय परिषद है, इस बात पर फैसला करने वाली है कि इस जमीन का भविष्य क्या होगा। अगर आर्किटेक्ट डेविड चिपरफील्ड की प्लानिंग को मंजूरी मिलती है तो इस जगह पर चीन का बहुत बड़ा दूतावास बनेगा जिसमें सैकड़ों कर्मचारी काम कर सकेंगे। इसके अलावा चीन की यहां पर एक बिजनस सेंटर बनाने की भी योजना है।

लीज पर दिया गया था अपार्टमेंट
रॉयल मिंट कोर्ट के साथ कुछ दिक्कतें भी जुड़ी हैं। दरअसल, ब्रिटिश राजघराने की संपत्तियों की देखरेख करने वाले क्राउन एस्टेट ने इस जमीन के एक हिस्से पर कुछ पुलिस अफसरों और नर्सों के लिए घरों का निर्माण किया था, जिसका क्वीन एलिजाबेथ ने 1989 में उद्घाटन भी किया था। इन नए अपार्टमेंट्स के निवासियों को 126 साल की लीज दी गई थी, लेकिन जमीन का मालिकाना हक यानी की फ्रीहोल्ड किसी और के पास है। ब्रिटेन में ऐसा होना आम बात है लेकिन इस मामले में विदेशी ताकत के दखल की वजह से दिक्कत आ सकती है।

निवासियों को सता रहे हैं कई डर
ब्रिटेन के कानूनों के मुताबिक, जमीन का फ्रीहोल्ड रखने वाली कंपनी या शख्स कुछ खास परिस्थितियों में लीज पर ली गई प्रॉपर्टी में घुस सकता है। इसके अलावा फ्री होल्डर को यह भी अधिकार मिला हुआ है कि वह अपार्टमेंट में रह रहे लोगों को अपने घरों के बाहर किसी तरह का निशान या झंडा लगाने से मना कर दे। इन अपार्टमेंट्स के निवासियों को इसीलिए यह डर सता रहा है कि अगर चीन ने यहां दूतावास बना लिया तो कुछ गंभीर परिणाम देखने को मिल सकते हैं।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Source