आतंकवाद पर अमेरिका का कड़ा प्रहार, इन संगठनों पर लगाया बैन

दुनिया भारत
अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (फाइल फोटो)- India TV Hindi
Image Source : AP अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (फाइल फोटो)

America Action on Terrorism: लंबे समय बाद अमेरिका ने कई आतंकी संगठनों पर कड़ी कार्रवाई की है। इन आतंकी संगठनों को वैश्विक घोषित करते हुए उन पर बैन भी लगा दिया है। इनमें से एक्यूआइएस आतंकी संगठन भी शामिल है, जो भारतीय उपमहाद्वीप में सक्रिय था। अमेरिका ने इसके साथ ही साथ तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) को भी वैश्विक आतंकी संगठन घोषित कर दिया है। बता दें कि टीटीपी और पाकिस्तान के बीच हाल ही में जंग छिड़ी है।

अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा है कि अमेरिका ने अलकायदा और पाकिस्तानी तालिबान समूहों के चार सदस्यों को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया है। उन्होंने कहा कि बाइडन प्रशासन यह सुनिश्चित करेगा कि कोई भी आतंकवादी अफगानिस्तान में पैर न पसार सके। जिन आतंकवादियों को बृहस्पतिवार को वैश्विक आतंकवादी घोषित किया गया है, उनमें भारतीय उपमहाद्वीप में अलकायदा (एक्यूआइएस) का अमीर ओसामा महमूद, एक्यूआइएस का उप अमीर आतिफ याह्या गोरी तथा समूह में और लोगों को भर्ती करने का काम संभालने वाला मुहम्मद मारूफ शामिल है।

टीटीपी पर भी लगा प्रतिबंध

अमेरिका ने पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में आतंकवाद को पनाह देने वाले तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के कारी अमजद पर भी प्रतिबंध लगाए गए हैं। ब्लिंकन ने कहा, ‘‘वैश्विक आतंकवादी घोषित किये गए लोगों की संपत्तियां अब अमेरिकी अधिकार क्षेत्र के अधीन हैं और सभी अमेरिकी व्यक्तियों को उनके साथ किसी भी लेनदेन में शामिल होने से प्रतिबंधित किया जाता है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बाइडन प्रशासन यह सुनिश्चित करेगा कि कोई भी आतंकवादी अफगानिस्तान में अपनी गतिविधियों को अंजाम न दे सके। उन्होंने एक बयान में कहा कि यह सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न प्रयास किये जा रहे हैं कि एक्यूआइएस और टीटीपी समेत विभिन्न आतंकवादी समूह अफगानिस्तान की सरजमीं का इस्तेमाल अपने नापाक मंसूबों के लिए नहीं करें।

एक्यूआइएस और टीटीपी का यह है उद्देश्य
सितंबर 2014 में स्थापित एक्यूआइएस एक इस्लामी उग्रवादी संगठन है जिसका उद्देश्य इस्लामी देश की स्थापना के लिए पाकिस्तान, अफगानिस्तान, भारत, म्यांमा और बांग्लादेश की सरकारों से लड़ना है। टीटीपी, जिसे आमतौर पर पाकिस्तानी तालिबान के रूप में जाना जाता है, जो अफगानिस्तान-पाकिस्तानी सीमा पर सक्रिय है। वर्ष 2007 में गठित इस समूह और अफगानिस्तान तालिबान की एक समान विचारधारा है। अब अमेरिका ने इन सभी आतंकी संगठनों पर बैन लगा दिया है। 

Latest World News

Source