तलाकशुदा महिलाओं ने रिश्ते को लेकर बताया वो सच, जिसकी वजह से टूट गई थी उनकी शादी

फैमिली रिश्ते नाते

किसी ने ठीक कहा है कि शादी कोई गुड्डे-गुड़ियों का खेल नहीं है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस रिश्ते को ताउम्र निभाने के लिए दो लोगों को बहुत ज्यादा समझदार-जुनूनी और एक-दूसरे पर विश्वास करके अपने जीवन में आगे बढ़ना पड़ता है। इस बंधन में जितनी ज्यादा क्लैरिटी रहेगी, उतना ही आप दोनों का साथ खुशहाल होगा। यही तो एक बड़ी वजह भी है कि कपल्स के बीच अगर कम्युनिकेशन अच्छा है, तो उनका रिलेशन न केवल हेल्दी होगा बल्कि वह हर तरह के इश्यूज को भी मिलकर सॉल्व कर सकते हैं।

लेकिन कभी-कभार वैवाहिक जीवन में तल्खी इतनी बढ़ जाती है कि पति-पत्नी न केवल एक-दूसरे से बात करना बंद कर देते हैं बल्कि उनकी शादी में भी पहले जैसी बात नहीं रह जाती। नतीजा एक खुशहाल शादी तलाक के दरवाजे तक पहुंच जाती है। इस दौरान बहुत से लोग यह भूल जाते हैं कि ये फैसला आपको वित्तीय-सामाजिक और कानूनी रूप से तो अलग करा सकता है, लेकिन इसके बाद जो अकेलापन आप लाइफ में फील करते हैं, उसका कोई इलाज नहीं है। ऐसा हम यूं ही नहीं कह रहे हैं बल्कि इस मुद्दे पर अलग-अलग तलाकशुदा महिलाओं ने अपनी राय रखी है।

शब्दों का चुनाव

अपनी बात को रखते हुए पहली महिला बताती है कि साथी से बात करते समय अपने शब्दों को सावधानी से चुनना बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है। ऐसा इसलिए क्योंकि भले ही आपको लग रहा हो कि आप मजाक कर रहे हैं। लेकिन इस दौरान आप यह नहीं जानते कि सामने वाला इसे कैसे ले रहा है। लड़ाई-झगड़ों के बीच बोले गए कटु वचन अच्छे से अच्छे विवाह को बर्बाद कर सकते हैं।

काश! अपने पति को धोखा देने से पहले मैं यह सब जान पाती, तो मेरा इतना बुरा हाल नहीं हुआ होता

बात करना बंद न करें

लड़ाई के बाद कुछ महिलाएं खुद को अपने पार्टनर से पूरी तरह अलग कर लेती हैं। वह अपनी भावनाओं को खुलकर साझा नहीं करती हैं। यह न केवल रिश्ते में भ्रम जैसी स्थिति पैदा कर देता है बल्कि इस एक वजह से दोनों के बीच कम्युनिकेशन गैप भी आ जाता है।

हालांकि, ऐसा कभी-कभार हो तो ठीक है, लेकिन जब ऐसा करना आपकी आदत बन जाती है, तो इस वजह से आपकी शादी भी टूट सकती है। दरअसल, अपने रिश्ते को सफल बनाने के लिए कम्युनिकेशन बहुत ज़रूरी है। रिश्ते में कई दिक्कतें आ सकती हैं। बहुत बार इश्यूज़ भी बढ़ सकते हैं। लेकिन कपल्स के बीच बोलचाल कभी बंद नहीं होनी चाहिए।

मेरी कहानी: मेरी बीवी की बुआ अलग-अलग लोगों के होठों को चूमती रहती है, वह मेरे साथ भी…

शादी में फोन है तीसरा आदमी

एक खुशहाल शादी में आप और आपके साथी के अलावा किसी तीसरे के लिए कोई जगह नहीं होनी चाहिए। शुरूआत में तो कपल्स एक-दूसरे के साथ बहुत समय बिताते हैं, लेकिन धीरे-धीरे जब उनके रिश्ते में गर्मजोशी खत्म होने लगती है, तो वह अपने पार्टनर से ज्यादा टाइम फोन को देते हैं, जैसे कि उन्होंने अपने फोन से ही शादी की है।

ऐसे में जब भी आप अपने कमरे में हों, तो फोन को खुद से दूर ही रखें। इस तरह से न केवल आप दोनों को एक-दूसरे को समझने में मदद मिलेगी बल्कि आप साथ में भी समय बिताएंगे।

‘पति के साथ बोरिंग हो गई थी शादी…’ इन 4 महिलाओं ने बताया कब पड़ गई उन्हें अपने पति को धोखा देने की नौबत

साथी से ज्यादा नहीं काम

कामकाजी जीवन बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण है। लेकिन जब आप अपने साथी के ऊपर काम को प्राथमिकता देने लगते हैं, तो यह आपकी शादी को खराब करने का काम करता है। इस दौरान आप भूल जाते हैं कि आप अपने साथी को धीरे-धीरे खो रहे हैं। अगर आपने अपनी वर्क प्रोफेशनल लाइफ में बैलेंस नहीं बनाया, तो इस वजह से आप और आपका साथी बहुत दूर हो सकते हैं।

इन 5 महिलाओं ने बताया कि किस वजह से बड़ी उम्र के आदमी के प्यार में बच्चा बन जाता है दिल