Umaria News : बांधवगढ़ में फिर हुई एक और तेंदुए की मौत, नौ दिन में चार की गई जान

उमरिया

उमरिया, नईदुनिया प्रतिनिधि । बुधवार को बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व में फिर एक तेंदुए की मौत हो गई है। 21 नवंबर से अभी तक यानी महज नौ दिन में चार तेंदुओं को बांधवगढ़ ने खो दिया है। बांधवगढ़ में जहां सप्ताह भर में लगातार तेंदुए की मौत का मामला थमा भी नही था कि फिर एक तेंदुए की मौत ने प्रबंधन पर सवाल खड़ा कर दिया है। पनपथा बफर क्षेत्र में वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को फिर एक तेंदुए के शव को गश्ती दल ने देखा है। जिसके बाद वरिष्ठ अधिकारियों को जानकारी दी गई। जानकारी के बाद मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने तेंदूए के शव को चिकित्सीय परीक्षण उपरांत उसका अंतिम संस्कार करवा दिया।

यहां मिला शव

जानकारी के मुताबिक बांधवगढ़ के पनपथा बफर क्षेत्र की करौंदिया बीट के कक्ष क्रमांक पीएफ 609 से लगे राजस्व क्षेत्र की सीमा के पास तेंदुआ का शव पाया गया था। मृत तेंदुए की उम्र लगभग 7 से 8 माह बताई गई है।वन विभाग के अधिकारियों ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि गश्ती दल ने तेंदुए को मृत अवस्था में देखा था। गश्ती दल के द्वारा तत्काल प्रबंधन को सूचना दी गई जिसके बाद प्रबंधन और डॉक्टर मौके पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में लिया और उसका चिकित्सीय परीक्षण कराया गया।

बाघ के हमले से मौत

तेंदुआ के मौत के मामले में बताया गया कि प्रथम दृष्टया तेंदुए की मौत होने की वजह किसी बाघ के हमले से होना प्रतीत होता है। मृत तेंदुआ के गले एवं शरीर के अन्य हिस्सों में बाघ के दांतो के निशान भी देखे गए हैं। घटना स्थल के आसपास बाघ के पगमार्ग भी पाए गए हैं। जिससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है कि तेंदुए की मौत की वजह बाघ का हमला ही है। तेंदुए के शव को वन्य प्राणी के निर्धारित प्रोटोकाल के तहत वरिष्ठ अधिकारियों की उपस्थिति में उसका अंतिम संस्कार कराया गया है।

Posted By: Nai Dunia News Network