विदेशों से लौटने वाले नागरिकों की इस तरह से सरकार दिलवाएगी रोजगार

अन्य

नई दिल्ली (Vande Bharat Mission) के तहत विदेशों से भारत लौटने वाले लोगों को भी देश में रोजगार उपलब्ध कराने की योजना बन चुकी है। इसे लागू करने की जिम्मेदारी केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमित मंत्रालय (MSDE) को मिली है। मंत्रालय के मिशन के अंतर्गत, नागरिक उड्डयन मंत्रालय () और विदेश मंत्रालय () की साझेदारी इस योजना को लागू किया जाएगा। सरकार ने शुरू की है एक नई पहल
वंदे भारत मिशन के तहत देश लौटने वाले नागरिकों की स्किल मैपिंग एक्सरसाइज़ का संचालन करने के लिए एक नई पहल (skilled workers arrival database for employment support) योजना की शुरूआत की गई है। इस Exercise के माध्यम से, स्किल इंडिया () और अन्य मंत्रालयों का लक्ष्य कौशल और अनुभव के आधार पर योग्य नागरिकों का एक डेटाबेस तैयार करना है, जिसे भारतीय और विदेशी कंपनियों की मांग को पूरा करने के लिए प्रयोग किया जा सकता है। स्किल इंडिया एकत्रित जानकारी को देश में उपयुक्त प्लेसमेंट अवसरों (Placement opportunities) के लिए कंपनियों के साथ साझा करेगा। लौटने वाले नागरिकों को एक SWADES स्किल फॉर्म भरने की आवश्यकता है और इसके बाद SWADES स्किल कार्ड जारी किए जाएंगे। ऐसे मिलेगा इन्हें रोजगार
कौशल मंत्रालय के अधिकारी का कहना है कि राज्य सरकारों, उद्योग संघों और नियोक्ताओं सहित प्रमुख हितधारकों के साथ चर्चा के माध्यम से उपयुक्त रोजगार के अवसर प्रदान किए जाने वाले नागरिकों के लिए ये कार्ड एक स्ट्रेटीजिक फ्रेमवर्क की सुविधा प्रदान करेगा। इसमें MSDE का कार्यान्वयन संगठन राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (NSDC) भी सहयोग कर रहा है। बनाया गया है एक विशेष पोर्टल
विभिन्न देशों से वापस लौटने वाले नागरिकों के आवश्यक विवरण को एकत्र करने के लिए www.nsdcindia.org/swades पोर्टल बनाया गया है, जिस पर उपलब्ध ऑनलाइन फॉर्म में व्यक्ति के कार्य क्षेत्र, नौकरी का शीर्षक, रोजगार, अनुभव के वर्षों से संबंधित विवरण एकत्र किए जा रहे हैं। फॉर्म भरने से संबंधित किसी भी प्रश्न के जवाब एवं नागरिकों की हरसंभव सहायता के लिए एक टोल फ्री कॉल सेंटर भी स्थापित किया गया है। अभी तक इस पर 4500 से ज्यादा पंजीकरण मिल चुके हैं। अब तक जितने आंकड़े एकत्र किये गए हैं, उसके आधार पर संयुक्त अरब अमीरात, ओमान, कुवैत, कतर और सऊदी अरब ऐसे शीर्ष देश हैं जहाँ से सबसे ज्यादा भारतीय नागरिक वापस आये हैं। स्किल मैपिंग के अनुसार, यह नागरिक वहां मुख्य रूप से तेल और गैस, विमानन, निर्माण, पर्यटन और आतिथ्य, आईटी और आईटीईएस जैसे क्षेत्रों में कार्यरत थे। इन आंकड़ो से यह भी पता चला है कि केरल, महाराष्ट्र, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक जैसे राज्यों में सबसे ज्यादा श्रमिक विदेशों से वापस लौटे हैं। लाखों लोगों के लौटने के आसार
दुनिया भर में कोविड-19 के प्रसार के कारण एक महत्वपूर्ण आर्थिक प्रभाव पड़ा है जिससे हजारों श्रमिक अपनी नौकरी गंवा रहे हैं और वैश्विक स्तर पर सैकड़ों कंपनियां बंद हो रही हैं। आगे के रोजगार की संभावनाओं के छोटे विकल्प के साथ, कई नागरिक भारत सरकार के वंदे भारत मिशन के माध्यम से देश में वापस लौट रहे हैं। लाखों नागरिकों ने देश में वापस आने के लिए विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मिशनों में पंजीकरण कराया है और अब तक 35,000 से अधिक लोग वापस देश लौट आए हैं। वंदे भारत का एक फोकस क्षेत्र खाड़ी क्षेत्र है, जहां इस समय 80 लाख से अधिक नागरिक रहते हैं।

Source